vegetables and fruits cultivation : अब अलग से जमीन की जरूरत नहीं, आप ऐसे पानी में ही लगा सकते हैं ये सब्जियां और फल

vegetables and fruits cultivation: खेती को आसान बनाने के लिए दुनिया भर में नई-नई तकनीकें बनाई जा रही हैं। इससे संसाधनों की बचत होती है और श्रम की खपत कम होती है। इसमें हाइड्रोपोनिक्स तकनीक भी शामिल है. जहां पारंपरिक खेती के लिए बड़ी मात्रा में कृषि मशीनरी, भूमि, उर्वरक, खाद और सिंचाई की आवश्यकता होती है, वहीं पर्यावरण-अनुकूल हाइड्रोपोनिक्स तकनीक कम पानी में अच्छी फसलें उगाने की अनुमति देती है।

हाइड्रोपोनिक्स खेती के लिए मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए इसे संरक्षित ढांचे में किया जाना चाहिए। पानी के अलावा, खनिज और पोषक तत्व बीज और पौधों को उपलब्ध होते हैं। इनमें फॉस्फोरस, नाइट्रोजन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटाश, जिंक, सल्फर, आयरन और कई अन्य पोषक तत्व शामिल हैं। जिससे फसल की पैदावार 25-30 प्रतिशत तक बढ़ जाती है.

इस तकनीक में प्लास्टिक पाइपों में बड़े छेद किए जाते हैं, जहां छोटे पौधे लगाए जाते हैं। जल 25-30 प्रतिशत अधिक वृद्धि प्रदान करता है। इन पौधों को ट्रे में बीज बोकर उगाया जाता है। हाइड्रोपोनिक्स का उपयोग अमेरिका, सिंगापुर, ब्रिटेन और जर्मनी में किया जा रहा है। यह तकनीक भारतीय किसानों और युवाओं के बीच भी काफी लोकप्रिय हो रही है। हाइड्रोपोनिक खेती के लिए बड़े खेतों की आवश्यकता नहीं होती है। किसान भाई कम जगह में भी खेती कर सकते हैं.

vegetables and fruits cultivation
vegetables and fruits cultivation

आप इन सब्जियों और फलों को उगा सकते हैं

सब्जी की खेती में हाइड्रोपोनिक्स तकनीक सफल रही है। भारत में कई किसान इस तकनीक का उपयोग करके छोटी पत्ती वाली सब्जियों की खेती कर रहे हैं, जैसे शिमला मिर्च, धनिया, टमाटर, पालक, ककड़ी, मटर, मिर्च, करेला, स्ट्रॉबेरी, ब्लैकबेरी, ब्लूबेरी, तरबूज, तरबूज, अनानास, गाजर, शलजम, ककड़ी, मूली और अनानास.

पोषण से भरपूर

हाइड्रोपोनिक्स में उगाई गई सब्जियां पोषण से भरपूर होती हैं, इसलिए इनकी मांग लगातार बनी रहती है। 100 वर्ग फुट के एरिया में इसे बनाने की लागत 50,000 से 60,000 रुपये तक आ सकती है. वहीं, 100 वर्ग फीट एरिया में 200 सब्जियों के पौधे लगाए जा सकते हैं. कमाई के लिहाज से यह तकनीक बड़े क्षेत्रों के किसानों को लाभ पहुंचा सकती है। हाइड्रोपोनिक्स से अधिक पैसा कमाने के लिए कम क्षेत्र में अनाज वाली फसलों के साथ पौधे लगाए जा सकते हैं।

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है