4 दिन में गन्ने की लम्बाई बढेगी, लम्बाई बढ़ाने की सबसे अच्छी दवा है?

4 दिन में गन्ने की लम्बाई बढेगी :- एथिल और जिबरेलिक एसिड जैसे पौधों के विकास हार्मोन के उपयोग से सिंचाई और अन्य पोषक तत्वों की आवश्यकता भी कम हो जाती है। हालाँकि, यदि सिंचाई और पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हों, तो उपज निश्चित रूप से अधिक होती है, लेकिन इससे खेती की लागत बहुत बढ़ जाती है। गन्ने की कम पैदावार का एक अन्य प्रमुख कारण अलग-अलग समय पर कल्लों का बनना है। यदि कलियाँ एक साथ उगेंगी तो एक साथ पकेंगी और उनका वजन भी अधिक होगा, रस और मिठास की मात्रा भी अधिक होगी। इसलिए गन्ने की खेती में कल्लों को बेवजह मरने से बचाया जाए तो किसान को ही फायदा होगा।

गन्ने की खेती | भारत भले ही गन्ने का सबसे बड़ा उत्पादक है, लेकिन हमारे खेतों में गन्ने की उत्पादकता 65 से 69 टन प्रति हेक्टेयर ही है. मिट्टी की उपज बढ़ाने के लिए खाद और उर्वरकों के उपयोग, उन्नत बीज, सिंचाई, उचित देखभाल जैसे खेती के तमाम प्रयासों के बावजूद गन्ना किसानों को अक्सर वांछित लाभ नहीं मिल पाता है। लेकिन गन्ना शोध से जुड़े वैज्ञानिकों ने अब ऐसे अनोखे तरीके खोजे हैं जिनसे पैदावार दो से तीन गुना तक बढ़ सकती है. इन उपचारों के नाम पौधे वृद्धि हार्मोन हैं: एथ्रेल और जिबरेलिक एसिड।

हार्मोन की भूमिका क्या है?

एथ्रेल और जिबरेलिन प्राकृतिक पौधे वृद्धि हार्मोन हैं। इसके परिणामस्वरूप गन्ने के तने को लंबा करने वाली स्टेम कोशिकाओं का विस्तार होता है, जहां शर्करा (कार्बोहाइड्रेट) जमा होते हैं। इस प्रकार जिबरेलिन के छिड़काव से गन्ने की भंडारण क्षमता बढ़ती है और अंततः चीनी का उत्पादन बढ़ता है। लेकिन ध्यान रखें कि किसान गन्ने के हार्मोन का प्रयोग स्वयं अन्य फसलों पर न करें। इससे आपको लेने के देने पड़ सकते हैं.

भारत में गन्ने की खेती की चुनौतियाँ

भारत में गन्ने की कम पैदावार के लिए हमारी भौगोलिक स्थिति काफी हद तक जिम्मेदार है। उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में, कम बीज जमाव, देर से कल्ले फूटना और अपर्याप्त तने का विकास गन्ने की इष्टतम उपज में बड़ी बाधाएँ पैदा करते हैं। बुआई के लगभग 45 दिन बाद जब गन्ने की वृद्धि का समय आता है तो इसकी पत्तियों को आवरण या आवरण की आवश्यकता होती है, तब उन्हें अनुकूल वातावरण नहीं मिल पाता है। फिर तेज धूप के कारण पौधों की काफी ऊर्जा खुद को बचाने में खर्च हो जाती है। इसीलिए यदि एथ्रल और जिबरेलिक एसिड जैसे पौधों के विकास हार्मोन का उपयोग किया जाए, तो गन्ने की खेती से जुड़ी कई गंभीर चुनौतियाँ समाप्त हो जाती हैं और उपज दो से तीन गुना बढ़ जाती है।

जीवित रहने के लिए बहुत अधिक ऊर्जा लगती है

दरअसल, विकास चरण के दौरान पत्तियों की अपेक्षित सुरक्षा न होने के कारण गन्ने के पौधों की अधिकांश ऊर्जा प्रकाश संश्लेषण में खर्च हो जाती है। उनके पत्ती-क्षेत्र-सूचकांक में कमी से पत्तियों का फैलाव, उनकी संख्या और तनों और जड़ों का विकास धीमा हो जाता है। इस अवधि के दौरान पौधे ऊर्जा की भरपाई के लिए अधिक नाइट्रोजन का उपभोग करते हैं, लेकिन वे उसी अनुपात में उत्पादन नहीं कर पाते हैं। तनों में आवश्यक ऊतक निर्माण की कमी के कारण टिलर मृत्यु दर भी बहुत अधिक है।

हार्मोन का प्रयोग गन्ना किसानों के लिए वरदान है

इन चुनौतियों के समाधान के रूप में, गन्ना वैज्ञानिकों ने एथिल और जिबरेलिक एसिड जैसे पौधों के विकास हार्मोन का एक अनूठा उपयोग किया। इससे न केवल गन्ने का जमाव जल्दी हुआ, बल्कि टिलर मृत्यु दर में भी कमी आई और अंततः, खेत में गन्ने के पौधों की संख्या और औसत वजन में वृद्धि हुई। इस प्रयोग के किसानों के खेतों में बेहतरीन परिणाम भी आए, इसलिए यह निर्णय लिया गया कि यदि किसान गन्ने और धान की फसल पर प्लांट ग्रोथ हार्मोन का उपयोग करेंगे तो उन्हें भरपूर उपज मिलेगी और उनकी आय भी बढ़ेगी।

4 दिन में गन्ने की लम्बाई बढेगी
4 दिन में गन्ने की लम्बाई बढेगी

एथिल और जिबरेलिक एसिड जैसे पौधों के विकास हार्मोन के उपयोग से सिंचाई और अन्य पोषक तत्वों की आवश्यकता भी कम हो जाती है। हालाँकि, यदि सिंचाई और पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हों, तो उपज निश्चित रूप से अधिक होती है, लेकिन इससे खेती की लागत बहुत बढ़ जाती है। गन्ने की कम पैदावार का एक अन्य प्रमुख कारण अलग-अलग समय पर कल्लों का बनना है। यदि कलियाँ एक साथ उगेंगी तो एक साथ पकेंगी और उनका वजन भी अधिक होगा, रस और मिठास की मात्रा भी अधिक होगी। इसलिए कल्लाओं को बेमौत मरने से बचा लिया जाए तो किसान का भला होगा.

गन्ने की खेती में हार्मोन का प्रयोग कब करें?

अत: वैज्ञानिकों का सुझाव है कि ऐसे सभी उपाय किये जाने चाहिए जिससे पौधे अगस्त-सितम्बर तक अधिकतम वृद्धि सीमा प्राप्त कर लें। क्योंकि बाद की अवस्था में प्रकाश संश्लेषण से बने तत्व चीनी के रूप में गन्ने के तने में जमा होने लगते हैं और उनका वजन बढ़ जाता है। एथ्रेल और जिबरेलिक एसिड जैसे पौधों के विकास हार्मोन के अनुप्रयोग से गन्ने की कलियों से अंकुरण, स्थापना और प्रारंभिक पौधों की संख्या में वृद्धि देखी गई है।

दो माह में फसल की जड़ें भी अच्छी तरह विकसित हो जाती हैं। पत्तियाँ

पहली पंक्ति में पंक्तियों की लंबाई बढ़ जाती है। एथ्रिल एवं जिबरेलिक एसिड के प्रभाव से प्रति हेक्टेयर अधिक गन्ना प्राप्त करने के लिए तद्नुसार स्मार्ट लीफ कवर एवं जड़ प्रणाली विकसित करना आवश्यक है।

इसका प्रभाव यह होता है कि जहां पौधे के विकास हार्मोन के प्रयोग के बाद एक गन्ने का पौधा 331 वर्ग सेंटीमीटर भूमि घेरता है, वहीं पारंपरिक नियंत्रण विधि के लिए 800 वर्ग सेंटीमीटर भूमि की आवश्यकता होती है। इस वास्तु परिवर्तन के कारण जहां गन्ने की उपज 255 टन प्रति हेक्टेयर है, वहीं नियंत्रण विधि से उपज 70 से 85 टन प्रति हेक्टेयर है। यह स्पष्ट है कि पौधे के विकास वाले हार्मोन ईथ्रल और जिबरेलिक एसिड का छिड़काव करने से उसी गन्ने के खेत की उपज तीन गुना तक बढ़ सकती है।

हार्मोन गन्ने के लिए भी उपयोगी होते हैं

लखनऊ स्थित भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों के अनुसार, वसंत ऋतु के गन्ने में पादप वृद्धि हार्मोन ने उत्कृष्ट परिणाम दिए हैं। पेड़ी की फसल से प्रति हेक्टेयर 3.06 लाख गन्ने की पेराई और वजन 183.2 टन हुआ।

इसी प्रकार, शरद ऋतु में गन्ने में पादप वृद्धि हार्मोन के प्रयोग से औसतन 330 टन प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त हुई, जबकि नियंत्रण से औसतन 129 टन प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त हुई। नियंत्रण विधि में प्राप्त गन्ने की अधिकतम संख्या 4.59 लाख प्रति हेक्टेयर, उनकी मृत्यु दर 66.7 प्रतिशत, पेराई हेतु प्राप्त गन्ने की संख्या 1.53 लाख प्रति हेक्टेयर तथा उपज 99.8 टन प्रति हेक्टेयर थी।

सूखी पत्तियों को सड़ाने से भी लाभ होता है

गन्ना अनुसंधान से जुड़े वैज्ञानिकों ने पाया कि गन्ने की फसल के 60, 90, 120, 150 दिनों के बाद 100 पीपीएम एथिल और जिबरेलिक एसिड -3 का छिड़काव करने से कल्लों की मृत्यु दर भी कम हो गई। जीवित कटिंग से प्ररोहों की लंबाई और तनों की वृद्धि दर भी बढ़ जाती है। इसके परिणामस्वरूप नियंत्रण विधि की तुलना में 66.5 टन प्रति हेक्टेयर अधिक उपज प्राप्त हुई।

इतना ही नहीं, यदि मेड़ शुरू करने से पहले उसमें गन्ने की सूखी पत्तियां फैला दी जाएं और उन्हें विघटित करने के लिए पूसा कम्पोस्ट इनोकुलेंट (300 ग्राम/टी सूखी पत्ती) मिला दिया जाए, तो कल्लों की संख्या 6.73 लाख प्रति हेक्टेयर होती है और उनकी मृत्यु दर होती है 54.5 भी. प्रतिशत कम करें.

गन्ना हार्मोन का उपयोग कैसे करें?

उपरोक्त सभी बिन्दुओं का ध्यान रखना, इथ्रेल एवं जिबरेलिक एसिड के प्रयोग से बीजों का शीघ्र एवं उच्च अंकुरण, प्रारम्भिक अवस्था में विकास दर तेज रखना, साथ ही कलियों की वृद्धि में वृद्धि, कलियों की मृत्यु दर कम करना एवं प्रयोग करना। घटकों का वैज्ञानिक विश्लेषण। कर रहा है। किसानों के खेत में चीनी की मात्रा, औसत वजन और उपज बढ़ाने के लिए गन्ने के प्रकाश संश्लेषण का भी सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया गया।

एथ्रिल और जिबरेलिक एसिड के बारे में अधिक व्यावहारिक जानकारी के लिए किसानों को अपने नजदीकी कृषि विकास केंद्र या कृषि अधिकारी से संपर्क करना चाहिए। ताकि किसान गन्ने की खेती की उन्नत एवं वैज्ञानिक तकनीक अपनाकर अपनी आय बढ़ा सकें।

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है