अब गन्ने में नहीं लगेंगे खतरनाक कीट, करना होगा ये उपाय, किसानों को होगा फायदा

अब गन्ने में नहीं लगेंगे खतरनाक कीट, करना होगा ये उपाय, किसानों को होगा फायदा गन्ने की खेती के लाभ पौधों की बीमारियों से निपटने के लिए जागरूकता की कमी और उचित ज्ञान की कमी के कारण किसानों की गन्ने की खेती पूरी तरह से नष्ट हो जाती है और उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

गन्ने की फसल का काला कीड़ा रोग

गन्ने की फसल में काला कृमि रोग लगने से गन्ने के पौधे पीले होकर धीरे-धीरे मुरझाने लगते हैं। यह बहुत ही खतरनाक बीमारी है। आमतौर पर इस रोग के होने के बाद किसान को लगता है कि गन्ने की फसल में पानी की कमी हो रही है, लेकिन ऐसा होता नहीं है. गन्ने की फसल में यह रोग लगने के बाद पूरी फसल को नष्ट कर देता है।

ब्लैकवॉर्म रोग से बचने के लिए किसान गन्ने की फसल में इमिडाक्लोप्रिड 17.8 ईसी का छिड़काव करें। आप इसे प्रभावित क्षेत्र या पूरे खेत में स्प्रे कर सकते हैं। काला कृमि रोग वर्षा ऋतु में अपने आप समाप्त हो जाता है। इस रोग का सर्वाधिक प्रभाव जुलाई के आसपास के महीनों में देखा जाता है।

गन्ने की तुषार

गन्ने की फसल के लिए कंडुआ रोग बहुत ही खतरनाक होता है। कंडुआ रोग से गन्ने के पौधों की कलियाँ फट जाती हैं और इस फटने से गन्ने का पौधा पतला रह जाता है। यह रोग फंगस से होने वाला रोग है तथा यह रोग गन्ने की फसल की उपज को अत्यधिक प्रभावित करता है।

गन्ने की फसल को कंदुआ रोग से बचाने के लिए गन्ने की फसल में प्रोपिकोनाजोल 25 ईसी का छिड़काव करना होगा। लेकिन किसान भाई ध्यान दें कि इस स्प्रे का छिड़काव साफ मौसम में ही करें। साथ ही कंडुआ रोग से क्षतिग्रस्त पौधों को उखाड़कर नष्ट कर देना चाहिए।

गन्ने का लाल धारी रोग

स्यूडोमोनास रूब्रिलिनिएन्स Na प्रजाति का जीवाणु है, जो गन्ने की फसल में लाल धारी रोग का प्रमुख कारण है। आमतौर पर देखा गया है कि यह रोग पत्तियों के निचले भाग से शुरू होकर धीरे-धीरे पूरी पत्ती को प्रभावित करता है। इस रोग के कारण पत्तियों में पाया जाने वाला क्लोरोफिल नामक पदार्थ समाप्त होने लगता है और पौधा सूख जाता है।

अब गन्ने में नहीं लगेंगे खतरनाक कीट, करना होगा ये उपाय, किसानों को होगा फायदा
अब गन्ने में नहीं लगेंगे खतरनाक कीट, करना होगा ये उपाय, किसानों को होगा फायदा

गन्ने की फसल में लाल सड़न रोग

इस रोग के कारण गन्ने के तने का भीतरी भाग चारों ओर से क्षतिग्रस्त हो जाता है। यह रोग होने पर गन्ने के उस भाग से शराब जैसी गंध आने लगती है। यह रोग भी एक कवक रोग है। लाल सड़न रोग आमतौर पर अगस्त माह में अपना प्रकोप अधिक दिखाता है।

गन्ने की फसल में टाप बोरर रोग

टाप बोरर रोग से गन्ने की फसल में पौधों की पत्तियों में छेद हो जाते हैं। इस रोग के लगने पर प्रारम्भ में पौधों की पत्तियाँ भूरी दिखाई देने लगती हैं। लेकिन धीरे-धीरे पत्तियों में छेद दिखने लगते हैं। शीर्ष बेधक रोग एक सफेद रंग के कीट के कारण होता है जो बहुत छोटा होता है लेकिन गन्ने की फसल के लिए बहुत हानिकारक होता है।

अपनी गन्ने की फसल को शीर्ष बेधक रोग से बचाने के लिए रोगग्रस्त पौधों को हटा दें और उन्हें पशुओं के चारे के रूप में उपयोग करें। साथ ही खेत में दी जाने वाली खाद में नाइट्रोजन की मात्रा कम कर दें, जिससे रोग धीरे-धीरे समाप्त हो जाएगा।

यह भी पड़े 

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है