Arhar Ki Kheti : अरहर की खेती कर मालामाल हो सकते हैं किसान भाई,​ जान लें कैसे मिलेगी बढ़िया दाल

Arhar Ki Kheti: अरहर की खेती करके किसान बढ़िया मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं। इसकी खेती करने से पहले खेत की मिट्टी को पोषण देना जरूरी है.

Arhar Ki Kheti

दाल उत्पादन के क्षेत्र में किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है. इसके अलावा किसानों को अधिक उत्पादन देने वाली अच्छी किस्म की दालों की खेती के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। जब दालों की खेती की बात आती है तो भारत में अरहर दाल बहुतायत में उगाई जाती है। भारत विश्व का 85% अरहर पैदा करता है। अरहर दाल को दालों का राजा भी कहा जाता है क्योंकि यह प्रोटीन, खनिज, कैल्शियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन से भरपूर होती है। इसकी खेती महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और गुजरात में की जाती है। अरहर दाल का उत्पादन शुष्क और आर्द्र दोनों स्थानों पर किया जाता है। इसमें अच्छी सिंचाई के साथ-साथ सौर ऊर्जा की भी आवश्यकता होती है। इसलिए इसकी बुआई जून से जुलाई माह में की जाती है.

खेतों में अरहर की बुआई करने के बाद खरपतवारों को उखाड़कर जमीन में दबा दें। अरहर की फसल में फूल आने पर पहली बार बुआई के 30 दिन बाद सिंचाई करें। दूसरी सिंचाई फसल में फलियाँ आने के 70 दिन बाद करनी चाहिए। अरहर की सिंचाई वर्षा पर निर्भर करती है, लेकिन कम वर्षा होने पर भी फसल को बुआई के 110 दिन बाद भी पानी देना चाहिए। अरहर में रोग एवं कीटों की निगरानी करते रहें तथा जैविक कीटनाशकों का ही प्रयोग करें।

Arhar Ki Kheti
Arhar Ki Kheti

अच्छी दालें कैसे प्राप्त करें

अच्छी उपज देने के लिए अरहर को बलुई दोमट मिट्टी या चिकनी दोमट मिट्टी में उगाया जा सकता है। अरहर की बुआई से पहले खेतों में गोबर की खाद डालकर मिट्टी को पोषण दें। खेत में गहरी जुताई करने के बाद जल निकासी सुनिश्चित कर लें, क्योंकि जलभराव से अरहर की दाल खराब हो जाती है. जून-जुलाई के मौसम में पहली बारिश होते ही या जून के दूसरे सप्ताह से अरहर की बुआई शुरू कर दें। बुआई के लिए अरहर की मान्यताप्राप्त उन्नत किस्मों का ही चयन करें, इससे गुणवत्तापूर्ण उत्पादन मिलेगा। खेतों में बुआई से पहले बीजोपचार करना भी जरूरी है ताकि फसल में कीट और रोग न फैलें.

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है